Tuesday, July 19, 2011

बेजान कमरा !

हे यमदूतो, मेरी प्रार्थना सुनकर
तुम, चुप-चाप, चले आओ
मुझे, तुम्हारा इंतज़ार है
इस ऊंची हवेली के
पीछे बने, बेजान कमरे में
मैं, ज़िंदा हूँ अभी
शायद, ज़िंदा रहूँगा, मरुंगा नहीं
तुम्हारे आने तक
पर तुम, देर न करो, आने में
जल्दी, जल्दी, और जल्दी आ जाओ
मुझे
अपने सांथ ले जाकर
किसी शांत, एकांत कब्रिस्तान में
दफ्न कर दो, मार कर, या जीते जी
क्यों, क्योंकि
अब मेरा दम घुटने लगा है
मेरी ही बनाई हुई, बनवाई हुई
इस आलीशान हवेली के
पीछे बने, इस बेजान कमरे में
शायद अभी भी मेरे बेटे-बहु
जश्न मना रहे होंगे, अकेले अकेले
मुझे
इस बेजान कमरे में अकेला छोड़कर !!

2 comments:

रश्मि प्रभा... said...

http://www.parikalpnaa.com/2011/07/blog-post_918.html

Bhushan said...

हाँ, परिस्थितियाँ यमदूतों को प्यार भरा न्यौता देने के लिए मजबूर भी तो करती हैं.