Wednesday, February 9, 2011

होली !

होली आई, आई होली
लेकर आई, खुशियां होली

रंग-गुलाल, छेड-छाड
गली-चौबारे, घर-आंगन
गुजिया-सलोनी, लडडू-पेडे
मौज-मस्ती, हंसी-ठिठौली

बूढे-बच्चे, नौकर-मालिक
साहब-बाबू, गुरु-चेले
महिला-पुरुष, दोस्त-दुश्मन
खेल रहे हैं, मिलकर होली

आन-मान-शान, तिरंगा है पहचान
जात- धर्म, रंग हैं ईमान

तेरा- मेरा, रंगों का है मेला
गोरा- काला, होली है पर्व निराला

होली आई, आई होली
लेकर आई, खुशियां होली

1 comment:

gumdi.com said...

होली आई, होली आई ऐसी बहुत सी कवितायेँ सुनी थी मगर ये उनसे बिलकुल ही अलग है। लिखने के लिए धन्यवाद।

क्या आपको आपके LPG गैस सिलेंडर की Exp. डेट पता है ?