Friday, April 1, 2011

स्पर्श !

तुमने जब जब
मेरे कोमल अंगों को
अपने कठोर हांथों से
स्पर्श किया
छुआ, टटोलना चाहा
सच ! मैं कुछ पल को
सिहर
सी गई
डरी, सहमी रही
पर कुछ पल में ही
तुम्हारे हांथों का स्पर्श
मुझे, मन को भाने लगा !!

1 comment:

Manpreet Kaur said...

तुम्हारे हांथों का स्पर्श
मुझे, मन को भाने लगा !!

अच्छा पोस्ट है जी ! हवे अ गुड डे !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se
Latest News About Tech