Wednesday, March 30, 2011

गौरैया !!

चिड़ियों की चह-चहाहट सुन
मन मेरा, चंचल हो जाता है
जब जब देखूं, मैं तुझको
मुझको चिड़ियों सी, तू लगती है
चूँ-चूँ करतीं चिड़ियाँ जैसे
वैसे ही, तेरी बातें भी, मुझको
मीठी-मीठी, चूँ-चूँ सी लगती हैं
कब तू आती, पास मेरे
और कब फुर्र-फुर्र उड़ जाती है
नाजुक, कोमल, भावन, प्यारी
सच ! तू मेरी गौरैया है !!
.....
सच ! जब जब देखा मैंने गौरैया को, तुम मुझको याद आईं
और जब जब देखा तुमको मैंने, तुम गौरैया सी मन को भाईँ !
.....

2 comments:

Manpreet Kaur said...

बहुत ही अच्छा पोस्ट है जी ! हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर जरुर आना !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se
Latest News About Tech

Kailash C Sharma said...

सच ! जब जब देखा मैंने गौरैया को, तुम मुझको याद आईं
और जब जब देखा तुमको मैंने, तुम गौरैया सी मन को भाईँ !
.....
बहुत सुन्दर...