Friday, November 26, 2010

जीवन पथ

जीवन के छोटे से पथ पर
कदमों के छोटे से रथ पर
बढते हैं हम जीवन पथ पर
पग-पग रखकर बढते हैं हम
ऊंचे-नीचे जीवन पथ पर

मिलते हैं कुछ ऎसे पत्थर
देते हैं जो हमको टक्कर
खाते ठोकर - देते ठोकर
टक्कर देते बढते हैं हम
जीवन के छोटे से पथ पर

फ़िर मिलतीं कुछ पगडंडी हैं
पगडंडी पर मिलते कंकड
चुभते हैं पैरों को कंकड
छूट चले फ़िर पीछे कंकड
जीवन के छोटे से पथ पर

बढते बढते जीवन पथ पर
फ़िर मिलते मिट्टी के ढेले
ढेले भी कुछ अजब निराले
चुभते चुभते देते राहत
जीवन के छोटे से पथ पर

चलते चलते पहुंच रहे हैं
हम जीवन के सुन्दर पथ पर
इस पथ पर बिखरे हैं फ़ूल
मिले सुकूं सब को इस पथ पर
जीवन पथ पर ... जीवन पथ पर।

3 comments: